बारूद की धरती पर उगते सपनों के फूल

ND
अफगानी ड्रेस डिजाइनर्स मीना शेरजॉय और जुलेखा शेरजाद का शुमार भले ही नामी लोगों की सूची में न हो, लेकिन वे दोनों एक नया अध्याय रच रही हैं। वे युद्ध की विभीषिका से उबर रहे अफगानिस्तान में सृजन की एक नई कोशिश कर रही हैं। दरअसल अफगानिस्तान जैसी जगह पर जहाँ महिलाओं की हैसियत बहुत ज्यादा अच्छी न हो तथा युद्ध ने सारे प्राणियों की साँस में जहर घोल दिया हो, वहाँ जीवन में फिर से रंग भरने की कवायद बहुत जरूरी है। इन दो महिलाओं ने यहाँ नए कीर्तिमान रचे हैं, नई परिभाषाएँ गढ़ी हैं, नए आयाम दिए हैं। साथ ही दिया है महिलाओं को उनके हिस्से का आसमान।

ND|
शेरजॉय अफगानिस्तान वर्ल्ड वाइड शॉपिंग
  उस देश में जहाँ सपनों में भी आदमी सिर्फ और सिर्फ रोटी देखता है, वहाँ फैशन या फैशन शो जैसे महँगे शब्दों का होना भर कल्पना से परे है, लेकिन ये दो महिलाएँ इस कल्पना को साकार कर रही हैं। यही नहीं फैशन कई लोगों को इज्जत की रोटी के नाम भी कमा रही हैं।      
ऑनलाइन मॉल की अध्यक्ष हैं। वहीं शेरजाद दक्ष ड्रेस डिजाइनर होने के साथ एक एनजीओ भी चलाती हैं। अब तक युद्ध के शिकार बने हजारों लोग तथा विधवा महिलाएँ इस एनजीओ से टेलरिं
ग, कम्प्यूटर तथा बेसिक बिजनेस स्किल्स से जुड़े प्रशिक्षण ले चुके हैं। इनका मुख्य मकसद महिलाओं को आर्थिक रूप से सुदृढ़ बनाना है। साथ ही ये अपनी अमूल्य परंपराओं तथा संस्कृति को भी इस कला के सहारे जीवित रखना चाहती हैं।

सम्बंधित जानकारी

विज्ञापन
Traveling to UK? Check MOT of car before you buy or Lease with checkmot.com®
 

और भी पढ़ें :