जनगणना से पहले होगा हाउस होल्ड सर्वे, पूछे जाएंगे आपसे 31 सवाल

jangannna2021
Last Updated: शनिवार, 18 जनवरी 2020 (12:38 IST)
नई दिल्ली। (2021) के तहत पहले चरण में 1 अप्रैल से 30 सितंबर तक घरों को चिन्हित करने की प्रक्रिया शुरू होगी। केंद्र सरकार ने इसके लिए अधिसूचना जारी कर दी है।

इस बार 16 भाषाओं में जनगणना होगी। इस पर करीब 12 हजार करोड़ रुपए खर्च होंगे। 31 लाख से ज्यादा कर्मचारी जनसंख्या में भाग लेंगे। इस बार की जनसंख्या में शौचालय से लेकर आपके खाने के अनाज तक के बारे में सवाल पूछा जाएगा।

इस बार एनपीआर और जनगणना का कार्य एक साथ होगा। इसमें तीन काम होंगे- एनपीआर, सेंसस और हाउसहोल्ड सर्वे। तो तैयार रहिए हाउस होल्ड सर्वे के 31 सवालों के लिए, जो कर्मचारी आपके घर कर पहुंचकर आपसे पूछेंगे...

कौनसे होंगे वे 31 सवाल :
1. मकान का नंबर, नगर निगम या स्थानीय प्राधिकरण द्वारा दिया हुआ।
2. जनगणना का मकान नंबर।
3. मकान के फर्श, दीवार, छत में प्रयुक्त सामग्री।
4. मकान का क्या उपयोग हो रहा है। (जैसे- कारखाना, दुकान, किराएदार)
5. मकान की स्थिति।
6. परिवार का क्रमांक।
7. परिवार के सदस्यों की संख्या।
8. परिवार के मुखिया का नाम।
9. परिवार के मुखिया का‍ लिंग।
10. परिवार के मुखिया कौन-सी जाति है।
11. मकान का स्वामी कौन है।
12. मकान में कमरों की संख्या।
13. परिवार में कितने शादीशुदा व्यक्ति हैं।
14. पेयजल का मुख्य स्तोत्र क्या है।
15. पेयजल कहा से आता है।
16. बिजली का मुख्य स्तोत्र।
17. शौचालय की जानकारी।
18. शौचालय के प्रकार।
19. गंदे पानी की निकासी।
20. बाथरूम की उपलब्धतता।
21. रसोईघर और एलपीजी पीएनपीजी कनेक्शन की उपलब्धता।
22. खाना पकाने के लिए प्रयुक्त ईंधन क्या है।
23. रेडियो या ट्रांजिस्टर है या नहीं।
24. टीवी घर में है या नहीं।
25. इंटरनेट की सुविधा।
26. लैपटॉप या कम्प्यूटर है या नहीं।
27. साइकल, स्कूटर, मोटरसाइकल, मोपेड है या नहीं।
28. कार, जीप या वैन है या नहीं।
30. परिवार द्वारा खाया जाने वाला मुख्य अनाज।
31. मोबाइल नंबर (जनगणना की सूचना देने के लिए)।

मोबाइल ऐप से एकत्र होगा डेटा : डेटा एकत्र करने के लिए मोबाइल एप और निगरानी के लिए केंद्रीय पोर्टल का इस्तेमाल किया जाएगा। इससे जनगणना का काम बेहतर तरीके से जल्दी निपटाया जा सकेगा। एप का बटन दबाते ही डेटा भेजा जा सकता है।

पहली बार बनेगा NPR : 2021 की जनगणना में पहली बार राष्ट्रीय जनसंख्या रजिस्टर (NPR) तैयार किया जाएगा, जो कानून-व्यवस्था, लैंगिक समानता जैसे कई मुद्दों में सहयाता करेगा।


और भी पढ़ें :