0

बुधवार व्रत कैसे करें, जानिए पूजा विधि, कथा-आरती एवं फल

मंगलवार,जनवरी 21, 2020
Wednesday fast Information
0
1
प्राचीन काल में तो बहुत सारे धर्म हुआ करते थे लेकिन ईसाई और इस्लाम धर्म के उदय के बाद हजारों धर्म लुप्त हो गए। दूसरी ओर कट्टरपंथी देशों में बहुत से धर्मों का अस्तित्व मिट गया है और कुछ जो बचे हैं उनका अस्तित्व संकट में है। फिर भी एक अनुमानित आंकड़ों ...
1
2
मकर संक्रांति पर पुष्टि संप्रदाय में ठाकुरजी के सन्मुख संध्या आरती एवं सेन दर्शन में पतंग उड़ाने के पद गाए जाते हैं।
2
3
यह चंद्र ग्रहण कुल 04 घंटे 05 मिनट की अवधि तक रहेगा। यह भारत समेत यूरोप, ऑस्ट्रेलिया और अफ्रीका के कई हिस्सों में दिखाई देगा।
3
4
पौष मास को खर मास या मल मास या काला महीना भी कहा जाता है। मकर संक्रांति से खर मास की समाप्ति होती है। खरमास के दौरान हिन्दू जगत में कोई भी धार्मिक कृत्य और शुभ मांगलिक कार्य नहीं किए जाते हैं।
4
4
5
अधिकतर हिन्दू व्रत और त्योहार का संबंध ऋतु और मौसम से रहता है। 13 दिसंबर 2019 से पौष माह लगने वाला है जो नववर्ष 2020 में 20 जनवरी के दिन समाप्त होगा। इस माह में ठंड अधिक रहती है। दरअसल, शीत ऋतु दो भागों में विभक्त है। हल्के गुलाबी जाड़े को हेमंत ऋतु ...
5
6
सपने में कशीदाकारी हुए कपड़े या वस्त्र को देखने पर सुंदर एवं सुशील स्त्री की प्राप्ति हो सकती है।
6
7
मां लक्ष्मी धन की देवी है। मां लक्ष्मी को प्रसन्न करने के लिए कई तरह के उपाय किए जाते हैं। लेकिन कई बार जाने-अनजाने ऐसी गलतियां हो जाती हैं जिसकी वजह से धन की देवी मां लक्ष्मी घर में प्रवेश नहीं करती। आइए जानते हैं जाने-अनजाने में की गई 5 गलतियों ...
7
8
विवाह पंचमी 1 दिसंबर 2019 दिन रविवार को मनाई जाएगी। मार्गशीर्ष मास के शुक्ल पक्ष की पंचमी तिथि को एक समय व्रत रखकर नागों का पूजन करने वाले मनुष्य की अनेक कामनाएं पूरी हो जाती है।
8
8
9
सुलेमान शरीफ का कहना है कि राम हमारे दिल में हैं। हर तरह का झगड़ा अब खत्म होना चाहिए।
9
10
विवाह पंचमी का पर्व बड़ी ही धूमधाम से मनाया जाता है। इस बार ये पर्व 1 दिसंबर 2019 को है। इस अवसर पर हम आपको बता रहे हैं श्रीरामचरित मानस के अनुसार, श्रीराम ने सीता को पहली कहां और कब देखा था तथा श्रीराम-सीता विवाह का संपूर्ण प्रसंग
10
11
द्वापर युग में भगवान श्रीकृष्ण ने इसी दिन अर्जुन को भगवद्गीता का उपदेश दिया था। इसीलिए यह तिथि गीता जयंती के नाम से भी प्रसिद्ध है। वर्ष 2019 में गीता जयंती रविवार, 8 दिसंबर को मनाई जा रही है।
11
12
वि + वाह = विवाह अर्थात अत: इसका शाब्दिक अर्थ है- विशेष रूप से (उत्तरदायित्व का) वहन करना। विवाह को पाणिग्रहण कहा जाता है। दरअसल, विवाह संस्कार हिन्दू धर्म संस्कारों में 'त्रयोदश संस्कार' है।
12
13
शास्त्रों के अनुसार विवाह आठ प्रकार के होते हैं। विवाह के ये प्रकार हैं- ब्रह्म, दैव, आर्श, प्राजापत्य, असुर, गन्धर्व, राक्षस और पिशाच। उक्त आठ विवाह में से ब्रह्म विवाह को ही मान्यता दी गई है बाकि विवाह को धर्म के सम्मत नहीं माना गया है।
13
14
दिन का आरंभ प्रेम से करो। प्रेम से दिन व्यतीत करो। प्रेम से ही दिन को भर दो। प्रेम से दिन का समापन करो। यही प्रभु की ओर का मार्ग है।
14
15
मंदिर जाने के कुछ साइंटिफिक हेल्थ बेनिफिट्स भी हैं। अगर हम रोज मंदिर जाते हैं, तो इससे कई तरह की हेल्थ प्रॉब्लम्स कंट्रोल की जा सकती हैं। यहां जानिए ऐसे 7 फायदे, जो हमें रोज मंदिर जाने से मिलते हैं।
15
16
बुधवार, 13 नवंबर से नया हिन्दी माह अगहन शुरू हो गया है। मंगलवार, 19 नवंबर को कालभैरव अष्टमी है। भगवान कालभैरव के लिए विशेष पूजा-पाठ किए जाते हैं।
16
17
अंकों में 13 नंबर को अशुभ या मनहूस समझा जाता है लेकिन क्या कभी आपने इसका कारण जानने की कोशिश की है? आइए आज इन 14 बातों से जानें 13 के अंक का रहस्य ...
17
18
देवपूजा के स्थान पर इस कलश को अग्रस्थान प्राप्त होता है। पहले इसका पूजन, फिर इसे नमस्कार और बाद में विघ्नहर्ता गणपति को नमस्कार! ऐसा प्राधान्यप्राप्त कलश और उसके पूजन के पीछे अति सुंदर भाव छिपा हुआ है।
18
19
राज राजेश्वर भगवान सहस्त्रबाहु अर्जुन की जयंती प्रतिवर्ष कार्तिक मास की शुक्ल पक्ष की सप्तमी तिथि को मनाई जाती है। वर्ष 2019 में यह तिथि 3 नवंबर को आ रही है।
19
विज्ञापन
Traveling to UK? Check MOT of car before you buy or Lease with checkmot.com®