0

शनिदेव का मकर राशि में प्रवेश, किसे होगा लाभ, किसे होगा क्लेश

गुरुवार,जनवरी 23, 2020
0
1
जो स्त्री-पुरुष शुक्रवार को संतोषी माता का व्रत करते हैं, उनके लिए व्रत-विधि इस प्रकार है
1
2
कांचीपुरी में एक ब्राह्मण देवस्वामी तथा उसकी पत्नी धनवती रहती थी। उनके सात पुत्र तथा गुणवती नाम की पुत्री थी।
2
3
माघ मास की अमावस्या दुख-दारिद्र्य दूर करने तथा और सफलता दिलाने वाली मानी गई है। इस दिन निम्न उपाय करने तथा मंत्र जपने से जीवन में खुशहाली आती है।
3
4
वाणी, लेखनी, प्रेम, सौभाग्य, विद्या, कला, सृजन, संगीत और समस्त ऐश्वर्य को प्रदान करने वाली देवी मां सरस्वती से शुभ आशीष प्राप्त करने का दिन है वसंत (बसंत) पंचमी। मां शारदा के पूजन की सरलतम विधि है...
4
4
5
अगर आप मां सरस्वती के मंत्र और श्लोक नहीं जानते हैं तो वसंत पंचमी के दिन इन 11 नामों को 11 बार जपें। यश, विद्या, पराक्रम और बुद्धि के लिए बस यही 11 नाम पर्याप्त हैं। ये नाम असंभव को संभव बना देते हैं।
5
6
वसंत पंचमी का शुभ और मंगलकारी पर्व इस बार दो दिन आ रहा है। 29 और 30 जनवरी को सरस्वती देवी की पूजा अर्चना की जाएगी। माघ मास के शुक्ल पक्ष की पंचमी तिथि में इस वर्ष 3 ग्रहों का स्वराशि योग निर्मित हो रहा है। मंगल वृश्चिक राशि पर, गुरु धन में और शनि ...
6
7
सरस्वती का उल्लेख वैदिक साहित्य में एक नदी और एक देवी दोनों रूपों में आता है। बंगाल में विशेष रूप से सरस्वती को पूज्य माना जाता है।
7
8
साल 2020 में किस राशि के लिए कौन सा दिन शुभता लेकर आएगा। आइए जानें विस्तार से
8
8
9
मां शारदा सुख, संपत्ति, विद्या, बुद्धि, यश, कीर्ति, पराक्रम, प्रतिभा और विलक्षण वाणी का आशीष प्रदान करती है। प्रस्तुत है आपकी राशि के अनुसार सरस्वती मंत्र-
9
10
शनि 24 जनवरी को धनु राशि से मकर राशि में प्रवेश करेगा। ये ग्रह एक राशि में करीब ढाई साल रुकता है। कई बार शनि वक्री होकर भी राशि बदलता है, लेकिन इस साल ऐसा नहीं होगा।
10
11
जिस किसी भी जातक पर शनि की साढ़ेसाती और ढैय्या के प्रभाव से व्यक्ति के जीवन में कई प्रकार की परेशानियां आती हैं। लेकिन वहीं दूसरी तरफ जिस व्यक्ति के लिए शनि शुभ होता है वह मालामाल हो जाता है।
11
12
अत: इस दिन को मां सरस्वती के जन्मदिन के रूप में मनाया जाता है, इसलिए मां सरस्वती की पूजा-अर्चना, वंदना की जाती है। इस वर्ष वसंत पंचमी 29 जनवरी 2020, बुधवार को तो
12
13
घर के बड़े बुजुर्ग कुछ काम गुरुवार के दिन नहीं करने की सलाह देते हैं। जानिए 5 ऐसे कौन से काम है जो गुरुवार को कतई नहीं करने चाहिए
13
14
गुरुवार व्रत अत्यंत फलदायी है। गुरुवार को व्रत-उपवास करके यह कथा पढ़ने से बृहस्पति देवता प्रसन्न होते हैं। अनुराधा नक्षत्र युक्त गुरुवार से व्रत आरंभ करके 7 गुरुवार उपवास करने से बृहस्पति ग्रह की हर
14
15
साल 2020 में पांच ग्रह वक्री होंगे। ये पांच ग्रह मंगल, बुध, बृहस्पति, शुक्र और शनि हैं। जानिए, 5 ग्रहों के वक्री होने की तारीख और समय...
15
16
यह एक वैज्ञानिक तथ्‍य है कि वायु जब औष‍धीय पौधों के बीच होकर गुजरती है तो उसके जीवनदायिनी ऊर्जा के प्रभाव में वृद्धि हो जाती है। यह शोधित व सुगंधित वायु जब घर के आंगन, ड्योढ़ी, लॉबी आदि स्थानों तक पहुंचती है, तो वहां रहने वालों का स्वास्थ्य उत्तम ...
16
17
जन्म की अंग्रेजी तारीख, जन्म का अंग्रेजी महीना और अंग्रेजी सन् तीनों की विविध संख्याओं को जोड़कर संयुक्त अंक या भाग्यांक बनाया जाता है।
17
18
पौराणिक मान्यता के अनुसार बुधवार व्रत की शुरुआत विशाखा नक्षत्रयुक्त बुधवार से करना चाहिए। इस व्रत को विधिपूर्वक करने से मनुष्य की सभी मनोकामनाएं पूर्ण होती हैं तथा जीवन में सुख-शांति मिलती है और घर धन-धान्य से भरा रहता हैं।
18
19
प्रत्येक मनुष्य का समाज में प्रचलित नाम अंग्रेजी वर्णानुसार लेते हैं। इस नवीन विधि के अनुसार प्रत्येक वर्ण को एक निश्चित अंक दिया गया है। इस प्रकार नाम से संबंधित नामांक हम निकालते हैं।
19
विज्ञापन
Traveling to UK? Check MOT of car before you buy or Lease with checkmot.com®