0

घरेलू कामकाजी महिला कार्ड: कितनी होंगी वास्तविक घरेलू कामकाजी महिलाएं?

रविवार,फ़रवरी 16, 2020
BPL Card
0
1
आरंभ से ही पूरा चुनाव आम आदमी पार्टी और अरविंद केजरीवाल की ओर एकपक्षीय लग रहा था।
1
2
यह कहानी ऐसे कर्मों के फल भी है जिसे आपने कभी नहीं किया। फिर भी आपको कैसे यह दोष लगा? जानिए महाभारत की दिलचस्प कहानी।
2
3
यह कहानी ओशो ने अपने किसी प्रवचन में सुनाई थी। जीवन में सुख है तो दुख भी है और इसके अलावा भी बहुत कुछ होता है। सभी को स्वीकार करना जरूरी है।
3
4
प्यार के कोमल स्वरूप को सहेजे जाने की जरूरत है। जहां शब्द अनावश्यक हो जाए और अभिव्यक्ति बस आंखों ही आंखों में एक से दूजे तक पहुंच जाए। एहसास की एक ऐसी भीगी बयार, जो एक-दूजे के पास ना रहने पर भी दोनों को आत्मा का गहरा संदेश दे जाए। जी हां, बस.. प्यार ...
4
4
5
देश के 1 अरब 32 करोड़ लोगों की सुरक्षा में दी गई शहादत की उम्र घटकर बस कुछ पल, कुछ लम्हें या ज्यादा से ज्यादा 1 दिन ही रह गई है।
5
6
यह कहानी कहीं पढ़ी थी। संभवत: ओशो की किसी किताब में या और कहीं। यह बहुत ही प्रेरक कहानी है। आप भी इसे पढ़ें।
6
7
प्रसिद्ध दार्शनिक ऐलन वॉटस की एक किताब का नाम है- ‘दि बुक’। उसी से धर्म और नीति संबंधी कुछ अंश- वे सारे औरत ब्रांड धर्म जैसे कि इस समय आचरण में लाए जाते हैं, ऐसी खदानें हैं जो खाली हो गई। अब उनकी खुदाई करके कुछ मिलने वाला नहीं।
7
8
रतन टाटा ने फेसबुक पेज 'ह्यूमंस ऑफ बॉम्‍बे' पर अपनी प्रेम कहानी का दुनिया के सामने खुलासा किया है।
8
8
9
इंदौर में चल रहे ‘हुनर हाट’ का। एक ऐसा हाट या यूं कहे मेला जो देशभर में लगने वाले ट्रेडिशनल मेलों से बिल्‍कुल जुदा।
9
10
यह कहानी ओशो रजनीश ने अपने किसी प्रवचन में सुनाई थी। यह बहुत ही प्रेरक कहानी है। वे लोग जो हताश-निराश रहते हैं, आत्महत्या के बारे में सोचते रहते हैं या वे समझते हैं कि मैं जिंदगी में हार गया, अपने या दूसरों के कारण तो ऐसे लोगों को इस कहानी से ...
10
11
मालिक अर्थात शासक जो शासन करना जानता है, अपने अधिकारों के दम पर अपनी मर्जीनुसार निर्णय लेकर उन्हें सभी पर थोपता है।
11
12
चाहे कितना भी तुम मना करो, मान भी जाओ कि तुम मेरी हो। तपते जीवन की धूपों में, तुम शीतल छांव घनेरी हो।
12
13
सांस्कृतिक राष्ट्रवाद के अध्येता डॉ. सौरभ मालवीय एवं लोकेंद्र सिंह की पुस्तक ‘राष्ट्रवाद और मीडिया’ का विमोचन मीडिया विमर्श की ओर से आयोजित पं. बृजलाल द्विवेदी अखिल भारतीय साहित्यिक सम्मान समारोह में हुआ।
13
14
यह कहानी ओशो ने अपने किसी प्रवचन में सुनाई थी। यह कहानी अध्यात्म के अलावा सांसारिक समस्याओं का भी समाधान बताती है। जरूरी नहीं है कि आप इसे अध्यात्म के संदर्भ में समझे। जीवन में हम ऐसी कई गलतियां करते हैं कि हमें करना कुछ और चाहिए और करते कुछ और हैं।
14
15
प्लेटोनिक लव, झरझर करते झरने-सा निष्पाप और निष्कलंक। जहां एक-दूजे का लंबा साथ भी लंबा नहीं लगता है और दूरियां तड़पाती नहीं है। एक-दूसरे की याद सताती नहीं है और साथ रहो तो बोरियत कभी फटकती नहीं है।
15
16
चेरनोबिल के रब्बाई नाहुम को उनका पड़ोसी दुकानदार नाहक ही अपशब्द आदि कहकर अपमानित करता रहता था। कुछ दिनों बाद एक समय ऐसा आया कि दुकानदार का धंधा मंदा चलने लगा।
16
17
अधिकांश देशों में चीन के बारे में यह धारणा बन चुकी है कि चीन ने जानलेवा कोरोनावायरस के प्रकोप की शुरुआत होने पर पहले इसे छुपाए रखा,लेकिन जब स्थिति भयावह हो गई, तब चीन के पास इसके अलावा कोई विकल्प नहीं था कि वह सारी दुनिया को कोरोनावायरस के प्रकोप के ...
17
18
भगवान कृष्ण रुक्मणी के साथ भोजन कर रहे थे तभी वे उठे और भागे, लेकिन द्वार पर ही रुककर पुन: लौटकर भोजन करने लगे।
18
19
भारतीय मतदाता ने अपनी परिपक्वता पर मुहर लगा बता दिया कि कौन कितने पानी में है? निश्चित रूप से धड़कनें तो सभी दलों की बढ़ गईं हैं
19