0

हिन्दी का 'रोमनीकरण' घातक है...

बुधवार,सितम्बर 2, 2015
0
1
देवनागरी लिपि में न केवल संस्कृत और हिन्दी लिखी जाती है, बल्कि मराठी और नेपाली को भी देवनागरी लिपि में लिखा जाता है। देवनागरी की वैज्ञानिक प्रणाली के कारण उसकी लोकप्रियता उर्दू और कोंकणी में भी है और उर्दू व कोंकणी की अनेक किताबें और अख़बार भी ...
1
2
हिन्दी विश्व में सर्वाधिक बोली जाने वाली भाषाओं में से एक है। हिन्दी अपने आप में एक समर्थ भाषा है। इस देश में भाषा के मसले पर हमेशा विवाद रहा है। भारत एक बहुभाषी देश है। हिन्दी भारत में सर्वाधिक बोली तथा समझे जाने वाली भाषा है इसीलिए वह राष्ट्रभाषा ...
2
3
सातवें दशक के उत्तरार्द्ध में प्रकाशित एल्विन टॉफलर की पुस्तक 'तीसरी लहर' के अध्याय 'बड़े राष्ट्रों के विघटन' को पढ़ते हुए किसी को भी कोई कल्पना तक नहीं थी कि एक दिन रूस में गोर्बाचोव नामक एक करिश्माई नेता प्रकट होगा और 'पेरोस्त्रोइका' तथा ...
3
4
हिन्दी। हमारी अपनी हिन्दी। हम सबकी हिन्दी। ले‍किन क्या सचमुच हमारी यह भाषा हम सबकी भाषा है? इंटरनेट के कैनवास पर अपने शब्द फूलों से खिल-खिल जाने वाली हमारी हिन्दी को लेकर इतने भ्रम, भ्रांतियां और भड़काने वाले बयान आते रहे हैं कि आजादी के इतने वर्षों ...
4
4
5
माननीय प्रधानमंत्री हिन्दी को वरीयता देते हैं पर उनके कार्यालय ("प्रमंका") के अधिकारियों को राजभाषा हिन्दी से कोई लेना देना नहीं है इसलिए भारत सरकार द्वारा आरंभ आम जनता की योजनाओं की जानकारी केवल अंग्रेजी में जारी कर रहे हैं और हर योजना -राजकार्य ...
5
6
वरिष्ठ पत्रकार और सुपरिचित तकनीकविद् बालेन्दु शर्मा दाधीच ने हिन्दी में काम करने के लिए रोमन भाषा को अपनाए जाने के लेखक चेतन भगत के सुझाव को अव्यावहारिक और अनावश्यक बताते हुए इसकी आलोचना की है। हिन्दी पोर्टल प्रभासाक्षी.कॉम के संपादक श्री दाधीच ने ...
6
7

नादान चेतन भगत की नादान समझ!

मंगलवार,जनवरी 13, 2015
अंग्रेजी भाषा में उपन्यास आदि लिखने वाले एक नौजवान (चेतन भगत) ने, जो हिंदी प्रेमी भी है, एक लेख लिखा है। वह लेख हिंदी और अंग्रेजी अखबारों में छपा है। उस लेख में कहा गया है कि सारे हिंदी भाषी रोमन लिपि अपना लें। अपनी देवनागरी छोड़ दें। यह लेख इतना ...
7
8
एक ओर चेतन भगत हिन्दी अखबारों में छपने के लिए लालायित रहते हैं, दूसरी ओर वे देवनागरी के स्थान पर रोमन अपनाने की सलाह देते हैं। वे खुद क्यों नहीं देवनागरी को अपना लेते? वे अंग्रेजी आलेखों को हिन्दी में अनुवाद करके हिन्दी अखबारों में छपवाते हैं। ...
8
8
9
लेखक चेतन भगत का मानना है कि हिन्दी को आगे बढ़ाना है तो देवनागरी के स्थान पर रोमन को अपना लिया जाना चाहिए। क्या यह भाषा की हत्या की साजिश नहीं है? हिन्दी भाषा में अंगरेजी शब्दों का समावेश तो मान्य हो चुका है मगर लिपि को ही नकार देना क्या भाषा को ...
9
10
जिस हिन्दी की महत्ता को हम इतने दिनों बाद भी नहीं पहचान पाए हैं उसकी खासियत को हमारे महापुरुषों ने बहुत पहले ही जान लिया था। आइए जानते हैं कि हिन्दी के बारे में क्या थे उनके विचार
10
11
जानें हिन्दी के बारे में, हिन्दी भाषा का विकास, हिन्दी भाषा का महत्व आदि के बारे में हिन्दी आलेख पर!
11
12
आपकी सोच, आपकी प्रतिभा, आपकी लगन, आपकी कड़ी मेहनत, प्रबल इच्छा शक्ति और कार्य के प्रति समर्पण यहां कोई अस्तित्व नहीं रखता। अगर किसी चीज का वजूद है तो वह है अंगरेजी बोलना। जीवन में जितने लोग आगे बढ़े हैं और स्थापित हुए हैं वह सब अंगरेजी को जानने वाले ...
12
13
युनेस्को ने सन् 1999 में प्रतिवर्ष 21 फरवरी को अंतरराष्ट्रीय मातृभाषा दिवस मनाए जाने की घोषणा की थी। अंतरराष्ट्रीय मातृभाषा दिवस मातृभाषा दिवस को मनाने का उद्देश्य है भाषाओं और भाषाई विविधता को बढ़ावा देना, लेकिन आज हम भारतीय भाषाओं के संरक्षण और ...
13
14

आइए जानें शब्दकोश को

बुधवार,जनवरी 15, 2014
शब्दकोश एक खास तरह की किताब होता है। अंगरेजी में इसे डिक्शनरी कहते हैं। शब्दकोश में शब्दों को एक के बाद अकारादि क्रम से लिखा गया होता है, जैसे : अंक, अंकगणित, अंकुर, अंकुश…, या - अंग, अंगद, अंगारा… या - आग, आगत, आगम…, या - कक्ष, कक्षा, कगार…, खग, ...
14
15
क्या आप जानते हैं विश्व हिन्दी दिवस कब मनाया जाता है? आप में से अधिकांश का जवाब होगा 14 सितंबर। लेकिन नहीं यह गलत जवाब है वास्तव में विश्व हिन्दी दिवस प्रतिवर्ष 10 जनवरी को मनाया जाता है।
15
16
भारत की हिन्दी दरअसल हिन्दुस्तानी है। इसमें संस्कृत का छौंक लगाकर हिन्दी वाले इसे हिन्दी कह लें और अरबी-फ़ारसी का तड़का लगाकर उर्दू वाले उर्दू। शुद्ध हिन्दी और ख़ालिस उर्दू आमजन की भाषाएं नहीं हैं।
16
17
हिन्दी भाषा पर विभिन्न महापुरुषों के विचार वेबदुनिया के इस हिन्दी चैनल पर!
17
18

हिन्दी एक नजर में

शुक्रवार,सितम्बर 13, 2013
हिन्दी सिर्फ एक भाषा भर नहीं है। हिन्दी तो एक संस्कृति बन चुकी है। देश की आन बान और शान है हिन्दी। हिंदुस्तान की पहचान है हिन्दी। अगर हिंदुस्तान को जानना है तो आपको हिन्दी को जानना होगा। आइए जानते हैं हिन्दी के बारे में कुछ महत्वपूर्ण बातें....
18
19

हिन्दी भाषा : रोचक तथ्य

गुरुवार,सितम्बर 12, 2013
आपको यह जानकर आश्चर्य होगा कि हिन्दी भाषा के इतिहास पर पहले साहित्य की रचना एक फ्रांसीसी लेखक ग्रासिन द तैसी ने की थी।
19
विज्ञापन
Traveling to UK? Check MOT of car before you buy or Lease with checkmot.com®