0

नागरिकता संशोधन कानून : क्या बीजेपी हड़बड़ी में गड़बड़ी कर गई

सोमवार,दिसंबर 16, 2019
0
1
दक्षिण भारतीय राज्य केरल की ये 4 बहनें एक ही दिन जन्मीं, चारों ने अपना पूरा जीवन एक ही छत के नीचे साथ गुजारा, एक ही खाना खाया और एक ही जैसे कपड़े पहने। इतना ही नहीं 15 साल की उम्र तक स्कूल में भी एक साथ बैठती रहीं। अब ये चारों बहनें एक ही दिन शादी ...
1
2
सैम स्टफर्ड ने मां से फ़ोन पर कहा था, ज़ोर की भूख लगी है माई चिकन-पुलाव बनाओ। लेकिन नसीब में कुछ और लिखा था, कुछ ही देर बाद 2 गोलियों ने उसके शरीर को भेद डाला। एक सैम की ठुड्डी को चीरती हुई सिर की तरफ़ से निकल गई, दूसरी ने पीठ पर अपना निशान छोड़ ...
2
3
देश की संसद से पारित होकर और राष्ट्रपति के मुहर के बाद नागरिकता संशोधन विधेयक अब क़ानून की शक्ल ले चुका है। अब देश भर में लागू हो गया है, लेकिन एक तरफ़ जहां इसे लेकर पूर्वोत्तर राज्यों में विरोध प्रदर्शन हो रहे हैं वहीं कुछ राज्य सरकारें इसे अपने ...
3
4
'बोरिस जॉनसन ब्रिटेन के मोदी हैं।' ये विचार ब्रिटेन में रहने वाले आम प्रवासी भारतीयों के हैं। वो कहते हैं कि ब्रितानी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तरह लोकप्रिय नहीं हैं लेकिन वैचारिक समानता दोनों को एक दूसरे के नज़दीक लाई है। उनका मानना है कि बोरिस ...
4
4
5
आंध्र प्रदेश विधानसभा में शुक्रवार को एक ऐसा विधेयक पास हुआ है, जिससे औरतों के ख़िलाफ़ आपराधिक मामलों का निपटारा 21 दिनों में किया जा सकेगा।
5
6
बारह बरस की इस बच्ची ने अपनी मदद करने वालों को बताया कि हर हफ़्ते के आख़िर में लोग उसके घर आते थे और उसका रेप करते थे। ये सिलसिला पिछले 2 वर्षों से चल रहा था। बलात्कारियों में से कुछ तो उसके पिता की जान-पहचान वाले होते थे और कई ऐसे भी होते थे ...
6
7
"एक किशोर लड़की जो अपने ग़ुस्से को काबू में करना सीख रही है। फ़िलहाल अभी मस्ती कर रही हूं और एक दोस्त के साथ बढ़िया पुरानी फ़िल्म देख रही हूं।" ये परिचय है पर्यावरण और जलवायु परिवर्तन मुद्दों पर काम करने वाली स्वीडन की 16 वर्षीय ग्रेटा थनबर्ग का।
7
8
7 मार्च 1971 को जब बांग्लादेश के राष्ट्रपिता शेख मुजीबुर्रहमान ढाका के मैदान में पाकिस्तानी शासन को ललकार रहे थे, तो उन्होंने क्या किसी ने भी यह कल्पना नहीं की थी कि ठीक 9 महीने और 9 दिन बाद बांग्लादेश एक वास्तविकता होगा।
8
8
9
भारत की जो मूलभूत परंपरा रही है वो ये है कि कोई भी शरणार्थी अगर हमारे द्वार पर आया है और वो अपने मुल्क में प्रताड़ना का शिकार है, तो हमने उससे ये नहीं पूछा है कि उसकी जाति क्या है, उसका मज़हब क्या है, वो किस समुदाय का है, हमने उसको पनाह दी है।
9
10
नागरिकता संशोधन विधेयक, 2019 के बारे में ये कहा जा रहा है ये संविधान की धारा 14 और 15 का उल्लंघन है और इस आधार पर इसे कोर्ट में चुनौती दी जा सकती है, लेकिन अगर कोर्ट में चुनौती दी गई तो क्या होगा?
10
11
नागरिकता संशोधन बिल पेश करते हुए गृहमंत्री अमित शाह ने लोकसभा में एक ऐसी बात कह दी, जिसकी गूंज काफी समय तक सुनाई देगी।
11
12
ये वो नाम हैं, जो शनिवार की शाम तक ज़िंदा थे। आंखों में अपने-अपने संघर्ष, सपने और संकटों को लिए जी रहे थे। ये बिहार में अपने गांवों से हज़ार किलोमीटर का सफ़र तय करके दिल्ली के एक कारखानों में हर रोज़ 12 से 15 घंटों तक काम कर रहे थे। ये जहां काम करते ...
12
13
दिल्ली के रानी झांसी रोड स्थित अनाज मंडी में रविवार सुबह में आग लगने की वजह से अब तक 43 लोगों की मौत की पुष्टि हो चुकी है। हताहतों की संख्या बढ़ने की आशंका भी बनी हुई है। ऐसा नहीं है कि देश की राजधानी में पहली बार आग लगने की बड़ी घटना हुई है। इससे ...
13
14
राँची में चर्च कॉम्पलेक्स के पास एक फ़ुट ओवरब्रिज है। इस पर बीजेपी का एक विशाल होर्डिंग लगा है। इस होर्डिंग में रघुबर दास और पीएम मोदी की तस्वीर है जिसके बग़ल में लिखा है- 'झारखंड के साथ मोदी है, तो किसी और के बारे में क्या सोचना।'
14
15
भारत के तीसरे सबसे बड़े मोबाइल नेटवर्क एयरटेल में एक बग पाया गया जो इसके 30 करोड़ से अधिक यूजर्स के पर्सनल डेटा को ख़तरे में डाल सकता था।
15
16
तेलंगाना की राजधानी हैदराबाद के पास एक महिला डॉक्टर के साथ गैंगरेप और उनकी हत्या के चार अभियुक्तों को शुक्रवार सुबह कथित मुठभेड़ के दौरान स्थानीय पुलिस ने गोली मार दी थी जिसे बहुत से लोगों ने 'वीरतापूर्ण' बताते हुए इसकी प्रशंसा की।
16
17
पानीपत फ़िल्म में सदाशिवराव की भूमिका अर्जुन कपूर निभा रहे हैं। सदाशिवराव भाउ की पहचान इतिहास में एक ऐसे शख़्स के तौर पर है जिन्होंने आधुनिक युद्ध की शुरुआत की। उन्होंने राष्ट्रवाद की भावना को आगे बढ़ाया और अपनी मातृभूमि से कई किलोमीटर दूर पानीपत ...
17
18
बीजेपी की वरिष्ठ नेता और लोकसभा सांसद मेनका गांधी ने तेलंगाना एनकाउंटर की निंदा की। उन्होंने कहा कि मैं इस एनकाउंटर के पूरी तरह ख़िलाफ़ हूं। जो कुछ भी हुआ वह बहुत ज़्यादा भयानक है। आप क़ानून को अपने हाथ में नहीं ले सकते। क़ानून के हिसाब से वैसे भी ...
18
19
चलते-फिरते, आते-जाते, सोते-जागते हम मोबाइल का लगातार इस्तेमाल करने लगे हैं। आज मोबाइल से हमारा जीवन चल रहा है और मोबाइल बैटरी से।
19