0

एक था विश्व हिन्दी सम्मेलन

शुक्रवार,अक्टूबर 16, 2015
0
1
इटली के हिन्‍दी भाषाविद् मार्को जोल्ली हिन्‍दी साहित्य में पीएचडी हैं। आपने भीष्म साहनी पर थीसिस लिखा है। भीष्म साहनी के उपन्यास का इटालियन में अनुवाद किया है। वे लगभग दस वर्षों से हिन्‍दी पढ़ा रहे हैं। उनको इस बार विश्व हिन्‍दी सम्मेलन का भाषा पर ...
1
2
विश्व हिन्‍दी सम्मेलन में सम्मिलित होने आई फीजी के समाचार पत्र शांति-दूत की संपादिका, 'नीलम कुमार' से जब मैंने उनके भारत के अनुभव के बारे में पूछा तो वे कहने लगीं कि भारत आना उनके लिए हर बार सुखद अनुभव होता है।
2
3
सोवियत रूस के प्रोफेसर अलेक्सेई पेत्रोविच वरान्निकोव हिन्‍दी और रूसी दोनों भाषाओं के अच्छे ज्ञाता थे। दोनों भाषाओं की अच्छी जानकारी व उन पर समान अधिकार होने के कारण आप सरलता से हिन्‍दी रचनाओं का रूसी में अनुवाद कर देते थे। आपकी मुख्य उपलब्धियों में ...
3
4
मेक्ग्रेगॉर ने पश्चिमी को हिन्‍दी से परिचित करवाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। मेक्ग्रेगॉर शीर्षस्थ भाषा विज्ञानी, व्याकरण के विद्वान, अनुवादक और हिन्‍दी साहित्य के इतिहासकार थे। आप एक सच्चे हिन्‍दी प्रेमी थे।
4
4
5
भोपाल के लाल परेड ग्राउंड में आयोजित दसवां विश्व हिंदी सम्मेलन (सितंबर 10-12) सचमुच भव्य था। एअरपोर्ट से होटल की राह पकड़ी तो झीलों की नगरी में स्वागत करती मोदीजी की एक और तस्वीर दिखाई पड़ी और फिर एक और...! सड़क पर मोदीजी का आदमकद कटआउट। नगर के हर ...
5
6
विश्व हिंदी सम्मेलन के पहले दिन तो पहले दिन तो विशेष तौर पर मीडिया के लिए चाय नाश्ते का प्रबंध किया गया था। मोदीजी भी आने वाले थे उद्घाटन के लिए। मोदीजी जो गए तो व्यवस्था भी चरमरा गई और पत्रकारों के सितारे भी।
6
7
भोपाल में आयोजित विश्व हिन्दी सम्मेलन के अवसर पर विश्व हिन्दी सम्मान से नवाजे गए जर्मनी के प्रो. हाइंस वारनाल वेस्लर ने वेबदुनिया से बातचीत में बताया कि हिन्दी की वजह से उन्हें नौकरी मिली, अन्यथा मुश्किल होती।
7
8
हिन्दी के लिए हिन्दी के प्रदेश में हिन्दी सम्मेलन हुआ। लाल सुगंधित माटी पर भव्यता से हिन्दी के लिए राजमहल सजाया गया। सुरक्षा से लेकर खानपान तक के व्यापक इंतजाम किए गए। हिन्दी विद्वानों और हिन्दी की सेवा करने वालों के नाम पर सुसज्जित द्वार और कक्ष ...
8
8
9

कब खत्म होगा हिन्दी का वनवास?

शुक्रवार,सितम्बर 11, 2015
भोपाल में हो रहा विश्व हिन्दी सम्मेलन देश के हृदयस्थल- मध्यप्रदेश, विशेषतः राजधानी भोपाल के लिए अत्यंत गौरव का विषय है। इस आयोजन ने एक बार फिर हिन्दीप्रेमियों की विश्व-बिरादरी के समक्ष हिन्दी की दिशा और दशा के बारे में विचार-मंथन करने का एक और अवसर ...
9
10

संयुक्त राष्ट्र में हिन्दी

बुधवार,सितम्बर 9, 2015
भारत एकमात्र ऐसा देश है जिसकी 5 भाषाएं विश्व की 16 प्रमुख भाषाओं की सूची में शामिल हैं। 160 देशों के लोग भारतीय भाषाएं बोलते हैं। विश्व के 93 देश ऐसे हैं जिनमें हिन्दी जीवन के बहुआयामों से जुड़ी होने के साथ विद्यालय और विश्वविद्यालय स्तर पर पढ़ाई जाती ...
10
11
जिन्हें हिन्दी की सेवा करना चाहिए थी, वे अब हिन्दी को ही खत्म करने में लगे हैं। हालांकि निम्नलिखित 10 हिन्दी के दोस्त बनकर दुश्मनों जैसा व्यवहार कर रहे हैं। भारत सरकार को चाहिए कि वे हिन्दी एवं भारतीय संस्कृति के संरक्षण के पक्ष में इन दुश्मनों पर ...
11
12
विश्व हिन्दी सम्मेलन के कवरेज को लेकर मास मीडिया पर सोशल मीडिया की बढ़त नज़र आ रही है। मास मीडिया में वह गहमागहमी नहीं, जो सोशल मीडिया में है। प्रिंट की खबरों में अभी भी यही बात कही जा रही है कि विश्व हिंदी सम्मलेन का उद्घाटन प्रधानमंत्री करेंगे, ...
12
13

250 साल पहले अंग्रेजी 'गरीब' थी

शनिवार,सितम्बर 5, 2015
जैसे ही अंग्रेजी में मौलिक सृजन प्रारंभ हुआ इस भाषा की दशा और दिशा बदल गई। आज यह विश्व की महाशक्ति अमेरिका, यूरोप, एशिया के कई देशों समेत आधे विश्व पर राज कर रही है।
13
14
दूसरों की सांस्कृतिक विरासत सिर्फ नएपन के तौर पर अच्छी लगती है, पर रोजमर्रा की जिंदगी में सिर्फ अपना और सिर्फ अपना ही चाहिए तब लिपि भी कहाँ अछूती है। हम क्यों छोड़ें अपनी दूसरों के लिए। हर वाक्य हर आम और खास को प्रेरित करेगा सिर्फ अपनी ही अपनाने के ...
14
15
यह विडंबना नहीं तो और क्या है कि आजादी के 68 वर्षों बाद भी हिन्दी संवाद नहीं, सिर्फ अनुवाद की भाषा बनकर रह गई है। तमाम संवैधानिक अनुच्छेदों और उपबंधों के बावजूद हिन्दी हाशिए पर ही रह रही है। उसे फुटपाथ पर गुजर-बसर करना पड़ रहा है, जबकि अँग्रेजी वाले ...
15
16
हम सभी इस बात को मानते हैं कि हिन्दी भाषा बोलने में, लिखने में, पढ़ने में सरल है। अब प्रश्न यह उठता है कि क्या हिन्दी भाषा का आरंभिक स्वरूप ऐसा ही था। हमारी अपनी सी लगने वाली हिन्दी भाषा का रूप ऐसा नहीं था। प्रारंभ में यह बोली के रूप में थी।
16
17
पढ़ने व पढ़ाने में सहज है, ये सुगम है, साहित्य का असीम सागर है ये हिन्दी। तुलसी, कबीर, मीरा ने इसमें ही लिखा है, कवि सूर के सागर की गागर है ये हिन्दी। वागेश्वरी का माथे पर वरदहस्त है, निश्चय ही वंदनीय मां-सम है ये हिंदी। अंग्रेजी से भी ...
17
18
इंटरनेट पर हिन्दी छाई हुई है और अब सोशल मीडिया पर भी उसकी धाक है। हिन्दी और भारतीय भाषाओं में लोग सोशल मीडिया में सक्रिय हैं। हिन्दी की पोस्ट और ट्वीट को हजारों लाइक्स और आरटी मिल रहे हैं। ट्विटर पर रवीश कुमार जैसे पत्रकारों ने शान के साथ यह लिखना ...
18
19
प्रथम विश्व हिन्दी सम्मेलन 10-12 जनवरी 1975 को नागपुर, भारत में आयोजित किया गया था। तब से लेकर हिन्दी की यह सरल-तरल वैश्विक यात्रा अनेक भाषाई कुंभों की साक्षी रहते हुए अपने अगले, यानि दसवें पड़ाव की ओर निकल पड़ी है। दसवाँ विश्व हिन्दी सम्मेलन 10-12 ...
19
विज्ञापन
Traveling to UK? Check MOT of car before you buy or Lease with checkmot.com®